Monday, July 22, 2024
Latest:
राज्यसहकारिता

ब्याजमुक्त फसली ऋण वितरण में कीर्तिमान स्थापित, सहकारी बैंकों ने 26 लाख किसानों को बांटा 19 हजार 391 करोड़ रुपये का ब्याजमुक्त फसली ऋण

जयपुर, 1 अप्रेल (मुखपत्र)। राजस्थान के केंद्रीय सहकारी बैंकों ने शीर्ष बैंंक के मार्गदर्शन में, राज्य सरकार के मुखिया अशोक गहलोत और सहकारिता विभाग के मंत्री उदयलाल आंजना की अपेक्षा पर खरा उतरते हुए लाखों किसानों को 19 हजार 390 करोड़ रुपये से अधिक राशि का ब्याजमुक्त फसली ऋण वितरण कर, ऋण वितरण का नया रेकार्ड स्थापित किया है, साथ ही 26 लाख से अधिक अन्नदाताओं को बड़ी राहत प्रदान की है।

राजस्थान राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड (आरसीएसबी) द्वारा जारी आंकड़े बताते हैं कि वित्त वर्ष 2022-23 के दौरान अपेक्स बैंक के मार्गदर्शन में केंद्रीय सहकारी बैंकों और ग्राम सेवा सहकारी समितियों ने राज्य के 26 लाख से अधिक किसानों को रबी और खरीफ सीजन के दौरान 19 हजार 391 करोड़ 43 लाख रुपये का अल्पकालीन फसली ऋण वितरण कर, नया रिकार्ड कायम किया गया है। गहलोत सरकार के इस कार्यकाल में अब तक राज्य के किसानों को लगभग 63 हजार 671 करोड़ रुपये का फसली ऋण बांटा गया है, जो एक नया कीर्तिमान है।

Bhomaram, MD – RSCB Jaipur

राजस्थान राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक भोमाराम, अतिरिक्त रजिस्ट्रार के अनुसार, वित्त वर्ष 2022-23 के दौरान राज्य के 29 केंद्रीय सहकारी बैंकों द्वारा अनुमानत: 19 हजार 391 करोड़ रुपये से अधिक राशि का फसली वितरित किया गया है। इसमें से 9853 करोड़ 21 लाख रुपये का ब्याजमुक्त सहकारी ऋण रबी सीजन के दौरान वितरित किया गया, जिससे 26 लाख 62 हजार 200 किसान लाभान्वित हुए जबकि खरीफ सीजन के दौरान 25 लाख 60 हजार 700 किसानों को 9538 करोड़ 22 लाख रुपये का फसली ऋण वितरित किया गया। इस प्रकार वित्त वर्ष के दौरान कुल 19 हजार 391 करोड़ 43 लाख रुपये का ऋण वितरित किये जाने का शुरूआती अनुमान है। यह कुल 20 हजार करोड़ रुपये के ब्याजमुक्त फसली ऋण वितरण के लक्ष्य का लगभग 97 प्रतिशत है।

3.17 लाख से अधिक नये किसानों को सहकारी साख सुविधा से जोड़ा

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना की मंशा के अनुरूप, वित्त वर्ष के दौरान 3 लाख 17 हजार 569 नये किसान सदस्यों को सहकारी साख सुविधा से जोड़ा गया और उन्हें 546 करोड़ 67 लाख रुपये का ब्याजमुक्त फसली ऋण उपलब्ध कराया गया।

error: Content is protected !!